Wednesday, May 21, 2008

विभ्रम

तुम्हारे बदन के
उजास में,
चाँदनी
घुल गई है शायद,
ये चाँदनी...
तुमसे है या
चाँद से,
पता नहीं चलता...!!!


3 comments:

PD said...

मुक्तकछंद लिखने में लगता है महारत हासिल कर लिये हो भाई.. बहुत बढिया लिखे हो..

एक काम करो, ये वर्ड वेरिफ़िकेशन हटा लोगे तो ज्यादा लोग पढना और कमेंट करना चाहेंगे.. और वैसे भी अभी हिंदी ब्लौग में स्पाम कमेंट्स ना के बराबर ही आते हैं..

Archana said...

aapki lekhni ke baare mein kya kehna. par mujhe kuch posts padh kar lagta hai, ki kahin na kahin main bhi aisa hi sochti hoon, khaas kar tab, jab aap prakriti se prerit hokar likhte hain.

रश्मि said...

kamal hai.mai abhi tak aapke blog par ayyi kaise nahi.lamho ke kuch katre mai bhi bantna chahungi aapke sath.parichay man ko choone wala.bahut badhiya likhte hai. badhai.